ज्‍योतिष · ब्‍लॉगर · ब्‍लॉगिंग · वर्धा · सेमिनार · सोशल मीडिया

एथिकल फिशिंग : ऑनलाइन कमाई का तरीका

मैं आप लोगों के समक्ष केवल वही बता सकता हूं जो मेरा ठोस अनुभव है। इतना जरूर है कि मैं जो बताने जा रहा हूं वह बहु प्रतीक्षित है, यानी ऑनलाइन माध्‍यम से कमाई का तरीका। मेरी बात वजन इसलिए भी रखती है कि मैंने पत्रकारिता की जमी जमाई नौकरी छोड़ी और अब इस माध्‍यम… पढ़ना जारी रखें एथिकल फिशिंग : ऑनलाइन कमाई का तरीका

ज्‍योतिष · ब्‍लॉग · मेरे लेख · सिद्धार्थ जोशी

पिछले दिनों लेखन में…

पिछले लंबे अर्से से ब्‍लॉग से गायब हूं, लेकिन राहत की बात यह है कि लेखन से नदारद नहीं हूं। पिछले एक साल में ऑफलाइन लिखने का भी खूब मौका मिला और उसे मैंने भुनाने में कसर भी नहीं रखी। यहां कुछ लिंक छोड़ रहा हूं। इन पर मेरे कुछ लेख हैं। समय मिले तो… पढ़ना जारी रखें पिछले दिनों लेखन में…

ईश्‍वर · ज्‍योतिष · धर्म · वेद · स्‍वतंत्रता · new thought · sidharth joshi

स्‍वतंत्रता की संभावना – भाग तीन

ईश्‍वरवादी धर्मों में स्‍वतंत्रता की संभावनाईश्‍वरवादी धर्म वे हैं जो वेदों को मानते हैं। यह दर्शन विषय की भाषा है। ईश्‍वर की व्‍यु‍त्‍पत्ति कुछ इस तरह होती है कि वह सबकुछ जानने वाला है और सभी कुछ नियंत्रित रखता है। यानि सृष्टि में जो कुछ हो रहा है वह पूर्व नियत है। इंसान केवल खिलौना… पढ़ना जारी रखें स्‍वतंत्रता की संभावना – भाग तीन