sidharth joshi

दलितों की खबरें

पिछले चौबीस घंटे में दलितों से जुड़ी हुई 119 खबरें ऑनलाइन प्रकाशित हुई हैं। आज शनिवार है तो खबरों का दबाव आम दिनों की अपेक्षा कम है, दूसरी तरफ रियो ओलंपिक में मिले रजत पदक ने भी खबरों का मुंह मोड़ दिया है।

यह 119 खबरें तो मात्र गूगल न्‍यूज की हैं। जो खबरें गूगल न्‍यूज में लिस्‍ट नहीं होती हैं, उनकी संख्‍या मिलाकर पिछले चौबीस घंटे में 191 लेख दलित शब्‍द पर आधारित प्रचारित हुए हैं।

यह पता करना मुश्किल नहीं है, बस दलित लिखिए और गूगल पर सर्च कीजिए, फिर खोज डिवाइस में जाकर पिछले चौबीस घंटे पर उसे सेट कीजिए, तो आपके पास पिछले चौबीस घंटे में गूगल सर्च इंजन पर अपडेट हुए सभी लेख मिल जाएंगे…

हां, तो मूल बिंदू यह है कि आप सोशल मीडिया पर चाहे जैसी भड़ास निकाल लें, लेकिन एक पूरा तंत्र अंतरजाल को दलित शब्‍द से भरने में लगा हुआ है। अगर आज के आंकड़े को आधार भी बनाएं तो छह हजार लेख प्रतिमाह और पिछले दो साल में डेढ़ लाख लेख आए होंगे…

इतने तो कुल शब्‍द ही राष्‍ट्रवादियों ने नहीं लिखे होंगे। एक राष्‍ट्रवादी लिखता है, पांच उसकी पोस्‍ट को कॉपी कर फ्रेंड्स ओनली में शेयर कर लेते हैं।

अभी भी ऑनलाइन युद्ध असमान धरातलों पर लड़ा जा रहा है…

Advertisements