new thought

मोदीजी आपकी कुर्सी

मैं मोदी समर्थक हूं, बड़ा वाला… मुझे मोदीजी के अब तक के सभी काम पसंद आए हैं। नीतियों को लेकर अब तक किसी को आलोचना का मौका नहीं मिला है, उनकी धोती, पजामा, कुर्ता, पैंट, चश्‍मा, बाल, खाल और चाम के बारे में बौद्धिक वर्ग को कुछ आभास हो पा रहा है, सो अधिकांश बौद्धिक बुद्धि बेचना छोड़ चमारी के काम में उतरने की सोच रहे हैं….

मोदीजी ने बुलेट ट्रेन की कही अच्‍छी कही
मेक इन इंडिया की कही अच्‍छी कही
जन धन योजना की कही अच्‍छी कही
गैस सब्सिडी छोड़ने की कही अच्‍छी कही
पैट्रोल के पैसे को देश के विकास में लगाया अच्‍छा किया
सुनारों पर लगाम के कोण से एक प्रतिशत टैक्‍स लगाया अच्‍छा किया

लेकिन मोदीजी अब आपकी कुर्सी खतरे में हैं..

आज सुबह मेरा पेट ढंग से साफ नहीं हुआ आपकी कुर्सी…
बाहर गली में गधा रेंक रहा है अब आपकी कुर्सी…
एक आदमी दीवार पर मूत रहा है, आपकी कुर्सी…
नत्‍थूराम की साइकल पंचर हो गई, आपकी कुर्सी…
बारिश से फसल खराब हुई, आपकी कुर्सी…
नवरात्र में एक तिथि का क्षय हो गया, आपकी कुर्सी…
भाजपाई अनर्गल भाषण दे रहे हैं (और ये नई बात है), आपकी कुर्सी…
फेसबुक धीमा चल रहा है, आपकी कुर्सी…
व्‍हाट्सअप ने इंक्रिप्‍टेड मैसेज शुरू किए हैं, अब तो आपकी कुर्सी…
नववर्ष के लिए मंगवाई सभी ध्‍वजा खत्‍म हो गई, अब आपकी कुर्सी…
सुलभ शौचालय में सफाई नहीं है, अब आपकी कुर्सी…
देश में सटोरिए क्रिकेट पर सट्टा खेल रहे हैं, अब आपकी कुर्सी…
मीडिया में पत्रकारों का शोषण हो रहा है, आपकी कुर्सी…

मोदीजी प्रधानमंत्री न हुए वामपंथी विचारकों के इंद्र हो गए, आदि से अंत तक हिलते रहने वाले सिंहासन पर बैठ गए…

अब क्‍या होगा… सुनार हड़ताल पर हैं और खातियों के पास पर्याप्‍त काम नहीं है, अब आपकी कुर्सी…

Advertisements