new thought

पराई हीनता

किसी से भी उसके काम के बारे में पूछ लीजिए, इतना गर्व से बताएगा कि सुनने वाले के मन में श्रद्धा उमड़ आए…

एक खाती बताएगा कि उसके दादा पड़दादा अपने हाथों से अपने औजार बनाते थे, एक कोरनी वाले कारीगर के पास तो एक हजार से अधिक औजार खुद के बनाए हुए थे। लकड़ी की प्रकृति और उपयोगी वस्‍तुओं के निर्माण में लगी कुशलता का बखान करेगा।

एक सुनार बताएगा कि उसके परिवार में सोने की घड़ाई या जड़ाई या मीनाकारी का काम कितनी पीढि़यों से हो रहा है और अपने काम करने वाले कमरे तक परिवार के अन्‍य सदस्‍यों तक का जाना मना है। उनके परिवार का नाम विशिष्‍ट काम करने वालों में जाना जाता है।

एक कुम्‍हार बताएगा कि मिट्टी के प्रकार, उसे सानने और चाक पर चढ़ाने के तरीकों पर उसके परिवार के बड़े बुजुर्गों को किस प्रकार की महारात हासिल थी, वह खुद भी अपने परिवार के लोगों से कितना सीखा है…

इसी प्रकार एक राजपूत अपने परिवार के त्‍याग को, एक वणिक अपने परिवार के व्‍यापार कौशल को और एक ब्राह्मण अपने परिवार के ज्ञान को बताता है, कई बार बढ़ा चढ़ाकर ही…

ये सभी परिवार से होते हुए जातिगत विशेषण और अंतत: निजी गौरव के विषय बनते हैं। यह गौरव श्रेष्‍ठता के बोध से हासिल होता है। स्‍वयं की श्रेष्‍ठता किसी प्रकार की बुराई नहीं है। एक किसान को हजार बातें पता होती है जो एक वणिक को नहीं पता होती, एक बागवान, एक मोटर मैकेनिक, एक हलवाई अपने आप में श्रेष्‍ठता लिए हुए होता है…

सत्‍ता के दौर में श्रद्धाएं अंधी हुई और निजी पारिवारिक अथवा जातिगत श्रेष्‍ठता का उपयोग हथियार की तरह दूसरी जाति को नीचा दिखाने के लिए किया गया…

यहीं मात खा गए…

सूखे हुए चमड़े की तरह एक ओर दबाव डालकर एक हिस्‍से को नीचा करते हैं तो दूसरा हिस्‍सा ऊपर उठता है… जातिगत श्रेष्‍ठता नहीं बल्कि दूसरे की निकृष्‍कता में सुख पा रही जातियां एक दूसरे की विरोधी बनती जा रही हैं।

कुछ मांसाहारी खुद को इसलिए श्रेष्‍ठ मानते हैं क्‍योंकि मांसाहार ही अंतत: फौलादी इरादे बनाता है और सुरक्षा में मदद करता है वहीं निरामिष खुद को इसलिए श्रेष्‍ठ मानते हैं क्‍योंकि वे प्रकृति के अनुकूल चल रहे हैं…

यह कोई मानने को तैयार नहीं कि हर किसी का अपना स्‍थान है, उस स्‍थान पर वही श्रेष्‍ठ है। सभी ब्रह्मा के मुख में ही घुस जाएंगे, न टांगे होंगी, न आंख, न कान, न सिर, न हाथ, न गुर्दा, न किडनी… कुछ नहीं, बस ब्रह्मा का मुख

Advertisements