Uncategorized

जनकवि को श्रद्धांजलि

हरीश भादाणी इस दुनिया में नहीं रहे। वे शायद स्‍वर्ग में नहीं जाएंगे। क्‍योंकि जीते जी जो ईश्‍वर के नाम पर बनाए हर सिस्‍टम का विरोध करते रहे वे मरने के बाद भी संभव है अपनी इस कोशिश को जारी रखें। केवल इसी कारण नहीं बल्कि आम आदमी की तकलीफ और दर्द को अपने सस्‍वर काव्‍य में दिखाने वाले हरीशजी को उनके पाठकों ने ही जनकवि बना दिया। जनवादी लेखक संघ के संस्‍थापकों में से एक इस कवि ने पूर्व स्‍थापित सभी मान्‍यताओं, भ्रांतियों और परम्‍पराओं को चुनौती दी और बहुत हद तक सफल भी रहे। अब अगर उसी भगवान के दूत उन्‍हें स्‍वर्ग में प्रवेश का न्‍यौता भी देंगे तो वे मना कर देंगे और एक नया स्‍वर्ग बनाएंगे। उनका वृहद् परिवार जिसमें उनके चाहने वालों की संख्‍या ही अधिक है, उस स्‍वर्ग में जाने के लिए लालायित रहेगा। खैर, बीकानेर के इस सपूत ने मरने के बाद भी बीकानेर नहीं छोड़ा। अपनी देह यहीं के सरदार पटेल मेडिकल कॉलेज को दान कर दी। यह भी स्‍थापित परम्‍परा को तोड़ने का ही जज्‍बा है। उन्‍हें मैं शब्‍दों में श्रद्धांजलि नहीं दे सकता सो उनकी कविता को यहां पेश कर रहा हूं जिसे उन्‍होंने तकरीबन हर मंच पर गाया फिर भी लोगों की प्‍यास बनी रही। उनके स्‍वर तो नहीं है लेकिन शब्‍द पेश करने की कोशिश कर रहा हूं।

रोटी नाम सत है

खाए ते मुगत है

ऐरावत पर इंद्र बैठे

बांट रहे टोपियां

झोलियां फैलाए लोग

भूग रहे सोटियां

वायदों की चूंटनी से

छाले पड़े जीभ पर

रसोई में लाव-लाव

भैरवी बजत है

रोटी नाम सत है

खाए ते मुगत है

बोले खाली पेट की

क्रोड़-क्रोड़ कुण्डियां

खाकी वर्दी वाले भोपे

भरे हैं बन्‍दूकियां

पाखण्‍ड के राज को

स्‍वाहा-स्‍वाहा होम दे

राज के विधाता सुण

तेरे ही निमत्त है

बाजरी के पिण्‍ड और

दाल की वैतरणी

थाळी में परोस ले

हथाळी में परोस ले

दाता के हाथ

मरोड़कर परोस ले

भूख के धरमराज

यही तेरा व्रत है

रोटी नाम सत है

खाए ते मुगत है

– जनकवि हरीश भादाणी

Advertisements

8 विचार “जनकवि को श्रद्धांजलि&rdquo पर;

  1. परंपराएं तोड़ने वाले हर जज़्बे को सलाम।आपको भी।

    Like

  2. दिनेश राय द्विवेदी जी ने अभी मुझे मेल करके बताया कि पोस्‍ट में लिखी कविता में कुछ गलतियां हैं। बीकानेरी भाषा में देखें तो इसमें गलतियां नहीं दिखी लेकिन उनकी किताब में अधिक सही लिखा होगा। दिनेशजी ने भी वहीं देखकर मुझे बताया होगा। उन्‍होंने कविता को सही करने की सलाह दी और सही कविता भी भेजी है। अभी मैं इसे कमेंट में ही डाल रहा हूं। किताब पढ़ने के बाद पोस्‍ट की कविता में भी सुधार करूंगा। गलतियों की ओर ध्‍यान दिलाने के लिए दिनेशजी का आभार। उनकी भेजी कविता रोटी नाम सत हैखाए से मुगत हैऐरावत पर इंद्र बैठेबांट रहे टोपियांझोलियां फैलाए लोगभूल रहे सोटियांवायदों की चूंसणी सेछाले पड़े जीभ पररसोई में लाव-लाव भैरवी बजत हैरोटी नाम सत हैखाए से मुगत है बोले खाली पेट कीकरोड़ क्रोड़ कूण्डियांखाकी वर्दी वाले भोपेभरे हैं बन्‍दूकियांपाखण्‍ड के राज कोस्‍वाहा-स्‍वाहा होम देराज के बिधाता सुण तेरे ही निमत्त है रोटी नाम सत हैखाए से मुगत हैबाजरी के पिण्‍ड औरदाल की बैतरणीथाळी में परोस लेहथाळी में परोस लेदाता के हाथमरोड़कर परोस लेभूख के धरमराज यही तेरा व्रत हैरोटी नाम सत हैखाए ते मुगत है

    Like

  3. स्मृति -शेष हरीश जी को नमन.उनसे दो लम्बी मुलाकातें कर पाने का संतोष है…कह सकता हूँ कि वे अद्भुत ऊर्जावान,विनम्र, लिहाजु, और अत्यंत धैर्यवान श्रोता भी थे जो नए लेखक की बेतरतीब रचनाओं को बिना आपा खोये सुनते थे.

    Like

टिप्पणियाँ बंद कर दी गयी है.