new thought · sidharth joshi

डर का ठोस कारण

पहली बार ऐसी हॉरर मूवी देखी है जिसमें डर का एक ठोस कारण है। डर पैदा करने वाले का भी और जो लोग डरे हुए हैं उनका भी। फिल्‍म खत्‍म होने के साथ ही डर भी खत्‍म हो गया और हॉल से निकलते वक्‍त दिल और दिमाग दोनों हल्‍के थे।
भारतीय फिल्‍म परम्‍परा में प्रेम और बदला प्रमुख हैं। राज द मिस्‍ट्री कन्‍टीन्‍यूज में पहले तो यही कंफ्यूजन है कि हीरो कौन है। अपने दिमाग के अनुसार तो वही हीरो होता है जिसके पास हीरोइन होती है (नशा पैदा करने वाली नहीं नशे में रहने वाली) और जो हीरोइन और हीरो के मिलने का विरोध करता है वह विलेन होता है। इस मूवी में तो सब गढमढ है। हीरोइन फिल्‍म के शुरू में किसी और के सामने नाचती है और इंटरवेल तक किसी और के साथ गंभीर हो जाती है और अंत में अकेली बैठी नजर आती है।
अब प्रेम का पक्ष तो खत्‍म बचा बदला। हीरो अपने बाप का बदला नहीं लेता बल्कि जिस लक्ष्‍य को लेकर उसका बाप मरा है उस लक्ष्य को पूरा करने की बस गरज होती है। अंत में हीरो के बाप को खुद ही विलेन को मारना पड़ता है।
जो भी हो फिल्‍म में पर्यावरण के प्रति दिखाई गई चिंता और डर पैदा होने का ठोस कारण इसे विशिष्‍ट बना देते हैं। कहानी इतनी दमदार है कि अन्‍य पक्षों की कमजोरी का पता ही नहीं चलता। दर्शक दम साधे कहानी के साथ आगे बढता रहता है। आखिर में जब सबकुछ खुलकर सामने आ जाता है तो तीन घण्‍टे के दौरान पैदा हुआ स्‍ट्रेस भी खत्‍म हो जाता है।
अंत में मेरी सलाह यही है कि फिल्‍म देखनी चाहिए। और हां फिल्‍म में जग्‍गू दादा का अहम रोल है।

Advertisements

3 विचार “डर का ठोस कारण&rdquo पर;

  1. Bahut sundar…!!___________________________________युवा शक्ति को समर्पित ब्लॉग http://yuva-jagat.blogspot.com/ पर आयें और देखें कि BHU में गुरुओं के चरण छूने पर क्यों प्रतिबन्ध लगा दिया गया है…आपकी इस बारे में क्या राय है ??

    Like

टिप्पणियाँ बंद कर दी गयी है.